Urdu Sad Poetry in hindi: मुझे याद है अभी तक वो तपिश तेरे लबों की..., पढ़िए उर्दू शायरी के कुछ बेहतरीन शेर

image credit : social media

अब नौजवान नस्ल में उर्दू को हिंदी में पढ़ने का शौक चढ़ा है. क्योंकि उन्हें की डिक्शनरी में मौजूद अल्फाज़ बहुत पसंद आते हैं.

image credit : social media

इसके लिए वो उर्दू शायरी का सहारा लेते हैं. कुछ लोग एक दूसरे से प्यार मोहब्बत का इज़हार करने या रूठों के मनाने के लिए शायरी का इस्तेमाल करते हैं.

image credit : social media

हालांकि उर्दू के पढ़ने और लिखने वालों की तादाद में दिन-ब-दिन कमी होती जा रही लेकिन इस भाषा के चाहने वालों की तादादा में मुसलसल इज़ाफा होता जा रहा है.

image credit : social media

जिससे भी उर्दू के बारे में पूछो तो वो इस भाषा को सीखना चाहता है. क्योंकि तहज़ीब की ABCD सिखाने वाली इस जबान की बात अलग ही है. 

image credit : social media

इसीलिए शायर अहमद वसी ने लिखा,"वो करे बात तो हर लफ़्ज़ से ख़ुश्बू आए, ऐसी बोली वही बोले जिसे उर्दू आए."

image credit : social media

इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा  लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं  मिर्ज़ा गालिब

image credit : social media

पूछा जो उन से चाँद निकलता है किस तरह  ज़ुल्फ़ों को रुख़ पे डाल के झटका दिया कि यूँ  आरज़ू लखनवी

image credit : social media

जिससे पूछें तेरे बारे में यही कहता है खूबसूरत है वफादार नहीं हो सकता इक मोहब्बत तो कई बार भी हो सकती है

image credit : social media

एक ही शख्स कई बार नहीं हो सकता वैसे तो इश्क का होना ही बहुत मुश्किल हो भी जाए तो लगातार नहीं हो सकता अब्बास ताबिश

image credit : social media

क़ातिल ने किस सफ़ाई से धोई है आस्तीं  उस को ख़बर नहीं कि लहू बोलता भी है  इक़बाल अज़ीम

image credit : social media

करे है अदावत भी वो इस अदा से  लगे है कि जैसे मोहब्बत करे है  कलीम आजिज़

image credit : social media

तुम तो हर बात पे तलवार उठा लेते हो शोख़ नजरों से भी कुछ काम लिए जाते हैं  शमशीर ग़ाज़ी

image credit : social media

दोस्तों को भी मिले दर्द की दौलत या रब  मेरा अपना ही भला हो मुझे मंज़ूर नहीं  हफ़ीज़ जालंधरी

image credit : social media

बिछड़ गए तो ये दिल उम्र भर लगेगा नहीं लगेगा, लगने लगा है, मगर लगेगा नहीं उमैर नज्मी

image credit : social media

ये एक बात समझने में रात हो गई है  मैं उस से जीत गया हूँ कि मात हो गई है  तहज़ीब हाफी

image credit : social media

मैं जिस के साथ कई दिन गुज़ार आया हूँ  वो मेरे साथ बसर रात क्यूँ नहीं करता  तहज़ीब हाफी

image credit : social media

मैं ने चाहा था ज़ख़्म भर जाएँ  ज़ख़्म ही ज़ख़्म भर गए मुझ में  अम्मार इकबाल

image credit : social media

एक ही बात मुझ में अच्छी है  और मैं बस वही नहीं करता  अम्मार इकबाल

image credit : social media

मुझे याद है अभी तक वो तपिश तेरे लबों की उन्हें जब छुआ था मैंने, मेरे होठ जल गए थे अज्ञात

image credit : social media

इस तरह की और वेब स्टोरी के लिए क्लिक करे