किसान की बेटी ने बिना कोचिंग के क्लियर किया UPSC एग्जाम, ऐसे बनीं IAS

यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन (UPSC) की सिविल सर्विस परीक्षा मुश्किल परीक्षा में से एक होती है, जिसे पास करना इतना आसान नहीं होता।

लेकिन कुछ ऐसे उम्मीदवार भी होते हैं तो अपनी मेहनत और लगन से इस परीक्षा में पास हो जाते हैं और अपना मुकाम हासिल कर लेते हैं।

आज हम मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर की तपस्या परिहार के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिन्होंने बिना किसी कोचिंग के साल 2017 में यूपीएससी की परीक्षा पास कर 23वीं रैंक हासिल की और एक IAS अधिकारी बन गईं। आइए जानते हैं उनके सफर के बारे में।

तपस्या परिहार मूल रूप से मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर की रहने वाली हैं। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा केन्द्रीय विद्यालय से पूरी की। इसके बाद उन्होंने पुणे के इंडियन लॉ सोसायटी के लॉ कॉलेज से लॉ की पढ़ाई की।

तपस्या परिहार मूल रूप से मध्य प्रदेश के नरसिंहपुर की रहने वाली हैं। उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा केन्द्रीय विद्यालय से पूरी की। इसके बाद उन्होंने पुणे के इंडियन लॉ सोसायटी के लॉ कॉलेज से लॉ की पढ़ाई की।

तपस्या ने जब दूसरे प्रयास की पढ़ाई शुरू की तो उनका लक्ष्य ज्यादा से ज्यादा नोट्स बनाकर आंसर पेपर को हल करना था।

तपस्या परिहार ने बिना कोचिंग के पढ़ाई की। इस दौरान उन्होंने अपनी स्टडी स्ट्रेटजी बदली और कड़ी मेहनत की। आखिरकार तपस्या की मेहनत रंग लाई और उन्होंने साल 2017 में 23वीं रैंक हासिल की।

आपको बता दें, तपस्या परिहार के पिता विश्वास परिहार मूल रूप से एक किसान हैं। तपस्या के चाचा विनायक परिहार एक सामाजिक कार्यकर्ता हैं, और उन्हें उनसे बहुत समर्थन मिला। तपस्या की दादी देवकुंवर परिहार नरसिंहपुर जिला पंचायत की अध्यक्ष रह चुकी हैं।

जब उन्होंने परिवार को यूपीएससी की तैयारी करने की इच्छा व्यक्त की, तो उनके परिवार ने बिना किसी हिचकिचाहट के उनका समर्थन किया।

अपने आस पास की खबर को पढ़ने के लिए निचे दिए गए लिंक पर क्लीक करे