Satyamev Jayate 2 Review

Satyamev Jayate 2 

यह पूरी तरह से जॉन अब्राहम की फिल्म है. वह ट्रिपल रोल में हैं. ऐक्शन, स्टाइल, कॉमेडी और डायलॉगबाजी के अलावा कुछ और इस फिल्म में ढूंढेंगे तो मुश्किल होगी.

Buy Smart Watches for Men & Women

Noise ColorFit Pulse Spo2 Smart Watch with 10 days battery life, 60+ Watch Faces, 1.4" Full Touch HD Display Smartwatch, 24*7 Heart Rate Monitor Smart Band, Sleep Monitoring Smart Watches for Men and Women & IP68 Waterproof (Jet Black)

Satyamev Jayate 2 

इस फिल्म का नाम जॉन, जॉनी, जर्नादन नहीं है लेकिन एक टिकट पर तीन जॉन के लिए आप सत्यमेव जयते 2 को याद रखेंगे. करीब 10 साल पहले विद्या बालन स्टारर द डर्टी पिक्चर आई थी तो लोगों ने कहा था, एंटरटेनमेंट एंटरटेनमेंट एंटरटेनमेंट. सत्यमेव जयते 2 देखते हुए लगता है,

Satyamev Jayate 2 

मसाला मसाला मसाला. सवाल यह कि आप कितना मसाला हजम कर सकते हैं. इसका जवाब है कि आपका स्वाद क्या है. फिल्म के निर्माता-निर्देशक कुछ बातों को लेकर स्पष्ट हैं. एक तो यह कि फिल्म 1980 के दौर के अंदाज से लिखी और बनाई गई है.

Satyamev Jayate 2 

हीरो का हड्डी तोड़ एक्शन, चुटीली कॉमेडी और लॉजिक जीरो. दूसरी बात सत्यमेव जयते 2 मुख्य रूप से सिंगल स्क्रीन फ्लेवर का सिनेमा है. जहां दर्शक हीरो की एंट्री से हर डायलॉग तक सीटी मारते हैं. ताली पीटते हैं.

Satyamev Jayate 2 

जब यह लक्ष्य है तो आप इसे आज की सिने-कसौटियों पर नहीं कस पाएंगे. निर्माता कंपनी टी-सीरीज, निर्देशक मिलाप जवेरी और जॉन अब्राहम ने सिंगल स्क्रीन में दर्शकों की वापसी कराने का बड़ा जोखिम लिया है. भारत में आज करीब 7000 हजार सिंगल स्क्रीन हैं

Satyamev Jayate 2 

और कोविड-19 की दूसरी लहर के बाद ज्यादातर ध्वस्त हैं. थियेटर मालिक उन्हें चलाने की स्थिति में नहीं हैं या बंद करना चाहते हैं. सत्यमेव जयते 2 सिंगल स्क्रीन को सहारा देगी या शटर गिरने से पहले जिंदा रखने की आखिरी कोशिश साबित होगी, यह जल्द पता चल जाएगा.

Satyamev Jayate 2 

जिसमें आम आदमी के दुश्मन, देश के अंदर दिखते हैं. वह उस सत्ता-व्यवस्था के चमकते चेहरे हैं, जो जन-गण की अंगुली पर लगी मतदान की स्याही और पसीने के दम पर शीर्ष तक पहुंचे हैं. सत्यमेव जयते 2 में जुड़वा भाई सत्या और जय अत्याचार, अन्याय, भ्रष्टाचार तथा गुंडई के विरुद्ध अपने-अपने अंदाज में लड़ाई लड़ते हैं.

Satyamev Jayate 2 

यूपी के ईमानदार और भ्रष्टाचार विरोधी गृहमंत्री के रूप में सत्या के सामने जन-सेवा और सबको बराबरी का हक देने वाले वाला समाज बनाने का मौका है. इसके लिए विधानसभा में कुछ नए कानून पारित होना भी जरूरी हैं मगर उसकी कोशिशों पर लालची और बेईमान पानी फेरते हैं.

Satyamev Jayate 2 

नतीजा मासूम लोगों की जिंदगी से खिलवाड़. विपक्षी दल में सत्या की विधायक पत्नी विद्या (दिव्या खोसला कुमार) भी है, लेकिन वह उसके अच्छे कामों के साथ खड़ी रहती है. विद्या के पिता (हर्ष छाया) मुख्यमंत्री हैं. दिन में लोकतांत्रिक ढंग से जनता की मुश्किलें खत्म करने को लड़ता सत्या रात में ‘शहंशाह’ के अंदाज में आम जनता का मसीहा बनकर, अपराधियों को सजा देता है और इस बात से राज्य में हंगामा खड़ा होता है.

इस तरह की और वेब स्टोरी के लिए क्लिक करे