March 5, 2024

NEWSZON

खबरों का digital अड्डा

यूपी: पश्चिमी यूपी की सियासी धुरी बने जयंत; एनडीए से बातचीत की अटकलों के बीच सपा-कांग्रेस मान-मनौव्वल में जुटीं – RLD

एनडीए

एनडीए

India Alliance: सियासी घमासान के बीच रालोद (RLD) की एनडीए में वापसी की प्रबल संभावना लग रही है। करीब 14 साल बाद बीजेपी और आरएलडी के बीच हुई बातचीत को सकारात्मक माना जा रहा है.

लोकसभा चुनाव 2024 से पहले चौधरी जयंत सिंह वेस्ट यूपी की राजनीति की धुरी बन गए हैं. एनडीए से बातचीत शुरू होने के बाद सबकी नजरें उन पर हैं कि उनका आखिरी फैसला क्या होता है. क्योंकि पश्चिम की ज्यादातर सीटों पर जाट मतदाता चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं.

अब इसे देखते हुए सपा और कांग्रेस के तेवर भी ढीले हो गए हैं और वे भी जयंत चौधरी को मनाने में जुट गए हैं. वेस्ट यूपी की बागपत, कैराना, सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, मेरठ, बुलंदशहर, गाजियाबाद, बिजनोर, नोएडा, अमरोहा, मुरादाबाद, संभल, पीलीभीत, बरेली, आंवला, बदांयू, मथुरा, फतेहपुर सीकरी, फिरोजाबाद, आगरा, अलीगढ़, हाथरस सीटों पर जाट मतदाता हैं.

इनमें से ज्यादातर सीटों पर हालात ऐसे हैं कि जाट मतदाता चुनाव को प्रभावित कर सकते हैं और जाट ज्यादातर आरएलडी के साथ माने जाते हैं. ऐसे में जब रालोद अध्यक्ष चौधरी जयंत सिंह के एनडीए के साथ जाने की चर्चा शुरू हुई तो सपा और कांग्रेस को चुनावी गणित बिगड़ने की चिंता सताने लगी है. इसलिए अब उन्होंने भी जयंत चौधरी को मनाने की कोशिश शुरू कर दी है.

कहा जा रहा है कि अब तक समाजवादी पार्टी जयंत चौधरी के साथ तय हुई सात सीटों में से तीन पर अपने उम्मीदवार उतारने का दबाव बना रही थीं, लेकिन अब वह सिर्फ आरएलडी के उम्मीदवार उतारने पर राजी हो गई हैं. वहीं कांग्रेस भी राजस्थान में एक लोकसभा सीट देने को तैयार है. लेकिन अब सबकी नजरें जयंत पर हैं कि वह किस तरफ रुख करते हैं.

हैंडपंप से भावनात्मक रूप से जुड़ा हूं, इसलिए इस प्रतीक की चाहत है

कई सीटों पर जाट रालोद पार्टी और नल चुनाव चिह्न से भावनात्मक रूप से जुड़े हुए हैं। इसलिए माना जा रहा है कि सपा अपने प्रत्याशी रालोद के सिंबल पर उतारना चाहती थी. उन्होंने कैराना, मुजफ्फरनगर और बिजनौर सीट पर आरएलडी के सिंबल पर अपने उम्मीदवार उतारने की पूरी तैयारी कर ली थी. इससे विवाद बढ़ गया और सपा का यह कदम अखिलेश यादव को महंगा पड़ गया.

अगर एनडीए संग गए तो जल्द ही छपरौली में बड़ा कार्यक्रम होगा

अगर जयंत एनडीए के साथ जाते हैं तो जल्द ही छपरौली में एक बड़ा कार्यक्रम होगा. जिसमें पूर्व केंद्रीय मंत्री चौधरी अजित सिंह की प्रतिमा का अनावरण किया जाएगा। और पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने की घोषणा हो सकती है. इसके साथ ही हरियाणा-यूपी को जोड़ने के लिए यमुना पर बने पुल का भी उद्घाटन किया जा सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *