March 5, 2024

NEWSZON

खबरों का digital अड्डा

PM MODI ने चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देकर जाटों का दिल जीता, जयंत के एनडीए में आने का रास्ता भी साफ

  • पीएम मोदी (PM Modi) ने चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देकर जाटों का दिल जीता, जयंत के एनडीए में आने का रास्ता भी साफ

आरएलडी नेता जयंत चौधरी किस तरफ जाएंगे? क्या वह बीजेपी के साथ लोकसभा चुनाव लड़ेंगे या अपनी पुरानी साथी समाजवादी पार्टी से समझौता करेंगे. फिलहाल लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी ने जयंत को बड़ा पैकेज ऑफर किया है. साथ ही चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देकर नरेंद्र मोदी ने यह संकेत दे दिया है कि एनडीए में जयंत का रास्ता साफ है. केंद्र सरकार के इस फैसले का जयंत चौधरी ने स्वागत किया है.

केंद्र सरकार ने पूर्व प्रधानमंत्री चरण सिंह को भारत रत्न देने की घोषणा की है. रालोद और जाट समुदाय पिछले तीन दशकों से किसान नेता चरण सिंह के लिए भारत रत्न की मांग कर रहे थे। लोकसभा चुनाव से पहले चरण सिंह को भारत रत्न देकर बीजेपी ने अपनी मंशा साफ कर दी है. पश्चिमी यूपी के जाट नेता जयंत चौधरी भारत में रहेंगे या एनडीए के पार्टनर बनेंगे, इस पर असमंजस लगभग खत्म हो गया है. भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव से पहले जयंत चौधरी को बड़ा पैकेज ऑफर किया है. इस पैकेज में इतने ऑफर हैं कि जयंत चौधरी अगले पांच साल तक केंद्र और उत्तर प्रदेश की सत्ता का लुत्फ उठा सकते हैं.

वहीं दूसरी ओर उन्हें अखिलेश यादव की ओर से सात लोकसभा सीटों का ऑफर मिला है. समाजवादी पार्टी ने कई सीटों पर सपा के सिंबल पर रालोद प्रत्याशी उतारने का प्रस्ताव दिया है. हालांकि, आरएलडी नेता ने दावा किया है कि पार्टी अभी भी भारत गठबंधन का हिस्सा है. छोटे चौधरी फिलहाल भारत और एनडीए के ऑफर पर विचार कर रहे हैं. एनडीए में जयंत के लिए रास्ता साफ करने के लिए केंद्र सरकार ने चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देने का ऐलान किया है. गौरतलब है कि कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देकर नरेंद्र मोदी ने नीतीश कुमार को एनडीए में लाने का रास्ता खोल दिया था.

क्या है बीजेपी का जयंत चौधरी को ऑफर?
पश्चिमी यूपी की 27 सीटें जीतने के लिए भारतीय जनता पार्टी हर तरह के हथकंडे अपना रही है. किसान आंदोलन और जाट वोटरों की नाराजगी दूर करने के लिए बीजेपी जयंत चौधरी को एनडीए के पाले में लाना चाहती है. सूत्रों के मुताबिक, बीजेपी ने जयंत चौधरी को चार लोकसभा सीटें ऑफर की हैं, जिनमें बिजनौर और बागपत भी शामिल हैं.

बागपत जयंत चौधरी और आरएलडी का पारंपरिक गढ़ रहा है. पश्चिमी यूपी के बागपत पर कब्ज़ा करने का मतलब जाट समुदाय का पूरा समर्थन माना जा रहा है. इस सीट से पूर्व प्रधानमंत्री चरण सिंह और छोटे चौधरी के नाम से मशहूर अजित सिंह सांसद रह चुके हैं. 2014 के चुनाव में यह सीट बीजेपी ने छीन ली थी. सत्यपाल सिंह पिछले 10 साल से बागपत के सांसद हैं. इसके अलावा बीजेपी ने आरएलडी को राज्य में दो मंत्री पद और राज्यसभा में एक सांसद चुनने का आश्वासन दिया है. बीजेपी के भरपूर ऑफर पर नजर डालें तो 2024 के लोकसभा चुनाव के बाद राष्ट्रीय लोकदल के पास भी केंद्र में मंत्री पद की संभावना रहेगी. इस वक्त पूरे उत्तर प्रदेश में राम लहर चल रही है. इसका फायदा जयंत चौधरी उठा सकते हैं. चौधरी चरण सिंह को भारत रत्न देकर बीजेपी ने संकेत दे दिया है कि डील फाइनल हो गई है, अब आखिरी फैसले की घोषणा जयंत चौधरी को करनी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *