March 1, 2024

NEWSZON

खबरों का digital अड्डा

माई पर होने लगा निर्माण | Mawana khurd Mai Mandir

उत्तर प्रदेश के जिला मेरठ में मवाना तहसील मुख्यालय से मात्र 5 किलोमीटर दुरी पर बसे गांव मवाना खुर्द जिसे छोटा मवाना के नाम से भी जाना जाता है। महाराज हस्ती का बसाया हुआ एक प्राचीन नगर हस्तिनापुर, जो कौरवों और पांडवों की राजधानी थी। इसका महाभारत में वर्णित अनेक घटनाओं से संबंध है। इसी हस्तिनापुर के छोटे मुहाने (दुवार) के नाम से बसा गांव छोटा मवाना है। यहाँ वैसे तो कई प्रचीन मंदिर है। उन्ही मदिरो में से एक बहुत प्रचीन माई का मंदिर है। जो गांव के उत्तर दिशा में विराजमान है। यू तो मदिर काफी प्रचीन है मगर जगल में होने के कारण और साल में सिर्फ एक बार लोगो के आने के कारण यह मंदिर भवन की जर्जर हालत थी। मधुमक्खीओ और सांप जैसे जीवो का घर बन चुके माई मंदिर की सुध लेने वाला कोई नहीं था।

तब कई से एक साधु गांव में आकर माई के मंदिर में रहने की इच्छा जाहिर करते है। मंदिर के आस पास के किसानो ने वहां उनके रहने की कुछ व्यवस्ता करवाई। और फिर शुरू होता है वहाँ मंदिर निर्माण

जब मंदिर निर्माण हो रहा था तो निर्माण समहू में शामिल मास्टर रामस्वरूप जी एक कविता कहते है –

पैज परण पर अड़ गए सारे गांव के किसान
माई पर होने लगा निर्माण…………………

झाड़ झुण्ड काट टिल्ले दूर सब बगाने लगे।
बुग्गियों में भर-भर कर मिट्टी अपने आप लाने लगे।।
अनिल, सुनील मिल कर “रामनिवास जी” को बुलाने लगे।
बाबा मौज करो मंदिर में, तकत दिए अशोक प्रधान ।।

माई पर होने लगा निर्माण…………………

नीटू और कालू मिलकर शोभा को बढ़ाने लगे।
चुन-चुन फूल सारे भावना के लाने लगे।।
कढ़ाई चढ़ाकर सबको भंडारा खिलाने लगे।
कीर्तन वाले आकर कीर्तन गाने लगे।।
ढोल मंजीर बजे ताल सुर होने लगा गुण गान।

माई पर होने लगा निर्माण…………………

पागल बाबा मिल के सबका साथ यो निभाने लगे।
बाबा फुलभारती आकर सबको रास्ता दिखाने लगे।
रजत, विनोद अपने घर से भी लगाने लगे।
रामश्वरूप कुछ करो त्याग, मंदिर में दे दो दान

माई पर होने लगा निर्माण…………………

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *