Hastinapur News : हस्तिनापुर सीट से श्रीमती सुधा देवी होंगी भाजपा प्रत्याशी: निर्दलीय के रूप में सुनीता रानी ने ठोकी ताल

Hastinapur News : हस्तिनापुर से पूर्व चेयरपर्सन सुनीता रानी ने किया नामांकन नगर पंचायत हस्तिनापुर से पूर्व चेयरमैन अरुण कुमार की पत्नी एवं खुद भी चेयरपर्सन रह चुकीं सुनीता रानी ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में नामांकन किया। अपने पति अरुण कुमार व प्रस्तावकों के साथ पहुंचकर उन्होंने निर्वाचन अधिकारी को नामांकन पत्र सौंपा। सुनीता रानी ने कहा कि उन्होंने व उनके पति ने पिछले 15 सालों में हस्तिनापुर में विकास की गंगा बहाई है। आज व अपने कार्यकालों में हुए विकास के दम पर निर्दलीय मैदान में हैं और उन्हें हर वर्ग की जनता का भरपूर सहयोग मिल रहा है।

दूसरी तरफ बहुजन समाज पार्टी ने श्रीमती पुष्पा देवी को टिकट दिया है। पुष्पा देवी पहली बार चुनाव मैदान में है।

हस्तिनापुर से भारतीय जनता पार्टी ने हस्तिनापुर नगर पंचायत से अध्यक्ष पद के लिए श्रीमती सुधा देवी को टिकट दिया है। भाजपा ने राज्यमंत्री दिनेश खटीक की 2 बहनों को चुनाव मैदान में उतारा है। मेरठ की हस्तिनापुर सीट से विधायक और राज्यमंत्री दिनेश खटीक की एक बहन वर्षा मोघा सहारनपुर के सरसावा से भाजपा के टिकट पर चेयरमैन का चुनाव लड़ रही हैं। दूसरी बहन सुधा देवी मेरठ की हस्तिनापुर सीट से चेयरमैन की प्रत्याशी हैं।

राज्यमंत्री की 2 बहनों को एक साथ टिकट मिलने से भाजपा की परिवारवाद विरोधी नीति केवल कोरी बातें साबित हो रही हैं। वहीं चर्चा है कि पार्टी ने आखिर क्या सोचकर मंत्री की दोनों बहनों को टिकट दिया। जबकि पार्टी के पास चुनाव में जिताऊ चेहरों और अच्छे प्रत्याशियों की लाइन लगी है।

बहनोई के बाद इस बार बहन को टिकट

सरसावा से दिनेश खटीक की दूसरी बहन वर्षा मोघा पहली बार चुनाव मैदान में हैं। वर्षा मोघा के पति विजेंद्र मोघा पिछली योजना में इसी सीट से चेयरमैन रहे हैं। इस बार बहनोई की जगह राज्यमंत्री ने बहन को टिकट दिला दिया है। राज्यमंत्री दिनेश खटीक के भाई नितिन और एक बहन आर्या कटारिया पूर्व में जिला पंचायत सदस्य भी रहे हैं।

2 साल से चल रही थी प्लानिंग

हमने हस्तिनापुर के कुछ लोगो से बात की है तो लोगो का कहना है कि राज्यमंत्री की बहन सुधा देवी को हस्तिनापुर चेयरमैन सीट से टिकट दिलाने की तैयारी पिछले 2 सालों से चल रही थी। सुधा पहली बार चुनाव लड़ रही हैं। चर्चा है कि जलशक्ति मंत्री दिनेश खटीक की बहन सुधा देवी का परिवार गाजियाबाद में रहता है। लेकिन कुछ वक्त पहले ही परिवार ने हस्तिनापुर सिविल लाइंस में एक मकान खरीद लिया। इससे प्रत्याशी मेरठ निवासी हो सकें। मंत्री दिनेश खटीक के बहनोई प्रवीन कुमार बिजली विभाग में एसडीओ हैं।

दोनों बहनों के टिकट पर उठ रहे सवाल

राजनीतिक के मुद्दों पर बोलने वाले लोगो का कहना है कि भाजपा में मंत्री नंदगोपाल गुप्ता नंदी की पत्नी और प्रयागराज से लगातार मेयर रहीं अभिलाषा नंदी का टिकट परिवारवाद के नाम पर काट दिया गया। वहीं राज्यमंत्री दिनेश खटीक की 2 बहनों को टिकट देने पर सवाल उठ रहे हैं। पूरे वेस्ट यूपी में मंत्री की बहनों के टिकट को लेकर तरह-तरह की बातें हो रही हैं।

Leave a Comment