दादाभाई नौरोजी का जीवन परिचय | Dadabhai Naoroji Biography in Hindi

Table of Contents

दादाभाई नौरोजी का जीवन परिचय | Dadabhai Naoroji Biography in Hindi

1825 – दादा भाई नौरोजी –गणमान्य सिक्षशास्त्री, पारसी राजनीतिज्ञ, स्वतंत्रता सेनानी, कपास के व्यापारी, दादाभाई नौरोजी (4 सितम्बर 1825 — 30 जून 1917) ब्रिटिशकालीन भारत के एक पारसी बुद्धिजीवी, शिक्षाशास्त्री, कपास के व्यापारी तथा आरम्भिक राजनैतिक एवं सामाजिक नेता थे। उन्हें ‘भारत का वयोवृद्ध पुरुष’ (Grand Old Man of India) कहा जाता है। 1892 से 1895 तक वे युनिटेड किंगडम के हाउस आव कॉमन्स के सदस्य (एम पी) थे।

दादाभाई नौरोजी गणित के प्रोफेसर थे | Dadabhai Naoroji was a Professor of Mathematics.

दादाभाई नौरोजी ने भारत में विश्वविद्यालयों की स्थापना के पूर्व के दिनों में एलफिंस्टन इंस्टीटयूट में शिक्षा पाई जहाँ के ये मेधावी छात्र थे। उसी संस्थान में अध्यापक के रूप में जीवन आरंभ कर आगे चलकर वहीं वे गणित के प्रोफेसर हुए, जो उन दिनों भारतीयों के लिए शैक्षणिक संस्थाओं में सर्वोच्च पद था। साथ में उन्होंने समाजसुधार कार्यों में अग्रगामी और कई धार्मिक तथा साहित्य संघटनों के, यथा “स्टूडेंट्स लिटरेरी ऐंड सांइटिफिक सोसाइटी के, प्रतिष्ठाता के रूप में अपना विशेष स्थान बनाया। उसकी दो शाखाएँ थीं, एक मराठी ज्ञानप्रसारक मंडली और दूसरी गुजराती ज्ञानप्रसारक मंडली। रहनुमाई सभी की भी स्थापना इन्होंने की थी।’ “रास्त गफ्तार’ नामक अपने समय के समाज सुधारकों के प्रमुख पत्र का संपादन तथा संचालन भी इन्होंने किया।

Dadabhai Naoroji
Dadabhai Naoroji

भारतीयकरण करने के लिए आंदोलन | Movement to Indianize

पारसियों के इतिहास में अपनी दानशीलता और प्रबुद्धता के लिए प्रसिद्ध “कैमास’ बंधुओं ने दादाभाई को अपने व्यापार में भागीदार बनाने के लिए आमंत्रित किया। तदनुसार दादाभाई लंदन और लिवरपूल में उनका कार्यालय स्थापित करने के लिए इंग्लैंड गए। विद्यालय के वातावरण को छोड़कर एकाएक व्यापारी बन जाना एक प्रकार की अवनति या अपवतन समझा जा सकता है, परंतु दादा भाई ने इस अवसर को इंग्लैंड में उच्च शिक्षा के लिए जाने वाले विद्यार्थियों की भलाई के लिए उपयुक्त समझा। इसके साथ ही साथ उनका दूसरा उद्देश्य सरकारी प्रशासकीय संस्थाओं का अधिक से अधिक भारतीयकरण करने के लिए आंदोलन चलाने का भी था। जो विद्यार्थी उन दिनों उनके संपर्क में आए और उनसे प्रभावित हुए उनमें सुप्रसिद्ध फीरोजशाह मेहता, मोहनदास कर्मचंद गांधी और मुहम्मद अली जिना का नाम उल्लेखनीय है।

भारतीयों के दु:खों की ओर ध्यान आकर्षित कराना | Drawing attention to the plight of Indians.

इसके अतिरिक्त दादाभाई का एक और उद्देश्य ब्रिटिश जनता को ब्रिटिश शासन से उत्पीड़ित भारतीयों के दु:खों की जानकारी कराना और उन्हें दूर करने के उनके उत्तरदायित्व की ओर ध्यान आकर्षित कराना भी था।

उन दिनों भारतीय सिविल सेवाओं में सम्मिलित होने के इच्छुक अभ्यर्थियों के लिए सबसे कठिनाई की बात यह थी कि उन्हें प्रतिकूल परिस्थितियों में ब्रिटिश अभ्यर्थियों से स्पर्धा करनी पड़ती थी। इस असुविधा को दूर करने के लिए दादा भाई का सुझाव इंग्लैंड और भारत में एक साथ सिविल सर्विस परीक्षा करने का था। इसके लिए उन्होंने 1893 तक आंदोलन चलाया जब कि उन्होंने वहाँ लोकसभा (हाउस आव कामन्स) में उस सदन के एक सदस्य की हैसियत से अधिक संघर्ष किया और सभा ने भारत तथा इंग्लैंड में एक साथ परीक्षा चलाने का प्रस्ताव स्वीकार कर लिया।

पूरा नामदादा भाई नौरोजी
जन्म4 सितम्बर 1825 
निधन30 जून 1917
उपाधिभारत का वयोवृद्ध पुरुष
जन्म स्थानमुम्बई, ब्रितानी भारत
जन्म मृत्युनवसारी, ब्रितानी भारत
राजनीतिक दलLiberal
जीवन संगीगुलबाई
निवासलन्दन, युनाइटेड किंगडम
पेशाशिक्षाशास्त्री, राजनीतिज्ञ, अर्थशास्त्री
हस्ताक्षर
समितिLegislative Council of Mumbai
विद्यार्थी फीरोजशाह मेहता, मोहनदास कर्मचंद गांधी और मुहम्मद अली जिना
सदन के सदस्य हाउस आव कामन्स
प्रचार नैशनल कांग्रेस

एक व्यक्ति की औसत वार्षिक आय कुल बीस रुपए थी | The average annual income of a person was total twenty rupees.

दादा भाई नौरोजी ने राष्ट्रीय आय का आकलन कब किया?

उन दिनों दूसरी उससे भी बड़ी परिवेदना भारतीयों की भयानक दरिद्रता थी। हालाँकि दादाभाई ही पहले व्यक्ति नहीं थे जिन्होंने इसके लिए दुःख की अभिव्यक्ति की हो किंतु वे पहले व्यक्ति अवश्य थे जिन्होंने उसके उन्मूलन के लिए आंदोलन चलाया। उन्होंने तथ्यों और आँकड़ों से यह सिद्ध कर दिया कि जहाँ भारतीय दरिद्रता में आकंठ डूबे थे, वहीं भारत की प्रशासकीय सेवा दुनियाँ में सबसे महँगी थी। सरकारी आँकड़े उन दिनों नहीं के समान थे और जानकारी प्राप्त करने के लिए कोई गैर सरकारी साधन भी नहीं था। भारतीयों की आर्थिक स्थिति के संबंध में प्रारंभिक सर्वेक्षण के बाद यही निष्कर्ष निकला कि देश में एक व्यक्ति की औसत वार्षिक आय कुल बीस रुपए थी। इन्हीं सब आँकड़ों के आधार पर ईस्ट इंडिया एसोसिएशन के सामने उन्होंने “वांट्स एंड मीन्स आव इंडिया’ नामक निबंध 27 जुलाई 1870 को पढ़ा।

Dadabhai Naoroji
Dadabhai Naoroji

ब्रिटिश शासन का बहिष्कार | boycott of British rule.

19वीं शताब्दी के अंत तक दादाभाई ने अनेक समितियों और आयोगों के समक्ष ही नहीं वरन् ब्रिटिश पार्लियामेंट के सामने भी भारत के प्रति की गई बुराइयों को दूर करने के लिए वकालत की और उच्चाधिकारियों को बराबर चेतावनी देते रहे कि यदि इसी प्रकार भारत की नैतिक और भौतिक रूप से अवनति होती रही तो भारतीयों को ब्रिटिश वस्तुओं का ही नहीं वरन् ब्रिटिश शासन का भी बहिष्कार करने के लिए बाध्य होना पड़ेगा, किंतु इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ा। अंत में उन्होंने भारतीयों की राजनीतिक दासता और दयनीय स्थिति की ओर विश्व लोकमत का ध्यान आकृष्ट करने के लिए महान प्रयास करने का निश्चय किया जिसका परिणाम हुआ उनकी वृहदाकार पुस्तक पावर्टी ऐंड अनब्रिटिश रूल इन इंडिया। इसमें बहुत से लेख, भाषण, निबंध और उच्चाधिकारियों से पत्रव्यवहार तथा समितियों और आयोगों के समक्ष दी गई उनकी गवाहियाँ तथा कितने ही महत्वपूर्ण अधिनियमों और घोषणाओं के उद्धरण थे। हाउस ऑफ कामन्स की सदस्यता प्राप्त करने में उनकी अद्भुत सफलता लक्ष्यपूर्ति के लिए एक साधन मात्र थी। उनका यह लक्ष्य या ध्येय था भारत का कल्याण और उन्नति जो संसद की सदस्यता के लिए संघर्ष करते समय भी उनके मस्तिष्क पर छाया रहता था।

नैशनल कांग्रेस के लिए प्रचार | Campaigning for National Congress

वे बराबर नैशनल कांग्रेस के लिए प्रचार करते रहे और भारत में अपने मित्रों को लिखे विविध पत्रों में पारसियों की राष्ट्रीय संग्राम से दूर रहने की प्रवृत्ति की निंदा करते रहे। कोई भी सप्ताह ऐसा नहीं बीतता था जिसमें उनके पास भारत से पत्र और कांग्रेस के संबंध में पत्रपत्रिकाओं की कतरनें न आती रही हों तथा उनके पत्र भारतीय मित्रों के पास न पहुँचते रहे हों। किसी ने कभी यह अपेक्षा नहीं की थी कि दादाभाई हाउस आव कामन्स में इतनी बड़ी हलचल पैदा कर देंगे किंतु उस सदन में उनकी गतिविधि और सक्रियता से ऐसा प्रतीत होता था मानो वे वहाँ की कार्यप्रणाली आदि से बहुत पहले से ही परिचित रहे हों। भारत की दरिद्रता, मुद्रा और विनिमय, अफीम या शराब के सेवन के प्रोत्साहन से उत्पन्न होने वाले कुपरिणामों के विषय में उनके भाषण बड़े आदर और ध्यान से सुने जाते थे।

हम कोई कृपा की याचना नहीं कर रहे हैं, हमें तो केवल न्याय चाहिए – दादाभाई

अपने लंबे जीवन में दादाभाई ने देश की सेवा के लिए जो बहुत से कार्य किए उन सबका वर्णन करना स्थानाभाव के कारण यहाँ संभव नहीं है किंतु स्वशासन के लिए अखिल भारतीय कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन (1906) में उनके द्वारा की गई माँग की चर्चा करना आवश्यक है। उन्होंने अपने भाषण में स्वराज्य को मुख्य स्थान दिया। अपने भाषण के दौरान में उन्होंने कहा, हम कोई कृपा की याचना नहीं कर रहे हैं, हमें तो केवल न्याय चाहिए। आरंभ से ही अपने प्रयत्नों के दौरान में मुझे इतनी असफलताएँ मिली हैं जो एक व्यक्ति को निराश ही नहीं बल्कि विद्रोही भी बना देने के लिए पर्याप्त थीं, पर मैं हताश नहीं हुआ हूँ और मुझे विश्वास है कि उस थोड़े से समय के भीतर ही, जब तक मै जीवित हूँ, सद्भावना, सचाई तथा संमान से परिपूर्ण स्वयात्त शासन की माँग को परिपूर्ण, करनेवाला संविधान भारत के लिए स्वीकार कर लिया जाएगा। उनकी यह आशा उस समय पूरी हुई जब वे सार्वजनिक जीवन से अवकाश ग्रहण कर चुके थे।

ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स से चुनाव जीता

पूर्व और पश्चिम में कांग्रेसी कार्यकर्ता तथा उनके मित्र भारत की नई पीढ़ी की आशाओं के अनुसार सांवैधानिक सुधारों को मूर्त रूप देने के लिए प्रस्ताव तैयार करने में व्यस्त थे। परंतु 20 अगस्त 1917 की घोषणा के दो महीने पूर्व दादाभाई की मृत्यु हो चुकी थी। इस घोषणा के द्वारा प्रशासनिक सेवाओं में अधिकाधिक भारतीय सहयोग तथा ब्रिटिश साम्राज्य के अंतर्गत क्रमश: भारत में उत्तरदायी शासन के विकास के लिए मार्ग प्रशस्त हुआ। इस प्रकार भारत के इस वयोवृद्ध नेता ने जो माँग की थी, उसकी बहुत कुछ पूर्ति का आश्वासन मिल गया। दादा भाई नोरौजी ने 1892 में लंदन के सेंट्रल फिंसबरी क्षेत्र से ब्रिटिश हाउस ऑफ कॉमन्स से चुनाव जीता। ये चुनाव जीतने वाले पहले एसियाई व्यक्ति थे।

दादाभाई नौरोजी द्वारा निर्धनता रेखा के निर्धारण का आधार क्या है

भारत में गरीबी निर्धारण का इतिहास ⦿ दादा भाई नौरोजी : इनकी पुस्तक ‘ पावर्टी एंड अनब्रिटिश रूल इन इंडिया ‘ में पहली बार गरीबी के मापन को ( G ) की न्यूनतम आवश्कताओं की पूर्ति से लगाया था । … इसके अनुसार उस व्यक्ति ( ग्रामीण एवं शहरी दोनों ) को गरीब माना गया जो प्रतिदिन औसतन 2,250 कैलोरी भोजन प्राप्त करने में असमर्थ था ।

दादाभाई नौरोजी सिद्धांत

दादाभाई नौरोजी यह कहने वाले पहले व्यक्ति थे कि आंतरिक कारक भारत में गरीबी के कारण नहीं हैं, लेकिन गरीबी औपनिवेशिक शासन के कारण हुई, जो भारत की संपदा और समृद्धि को कम कर रहे थे। 1867 में दादाभाई नौरोजी ने धन निकासी के सिद्धांत को आगे बढ़ाया था जिसमें उन्होंने कहा कि ब्रिटेन पूरी तरह से भारत से जल रहा है।

दादाभाई नौरोजी करियर (Dadabhai Naoroji career)

  • यहाँ से पढाई पूरी करने के बाद दादाभाई को यही पर हेड मास्टर बना दिया गया था.
  • दादाभाई एक पारसी पुरोहित परिवार से थे, इन्होने 1 अगस्त 1851 को ‘रहनुमाई मज्दायास्नी सभा’ का गठन किया था. इसका उद्देश्य यह था कि पारसी धर्म को एक साथ इकट्टा किया जा सके. यह सोसायटी आज भी मुंबई में चलाई जा रही है.
  • इन्होने 1853 में फोर्थनाईट पब्लिकेशन के तहत ‘रास्ट गोफ्तार’ बनाया था, जो आम आदमी की, पारसी अवधारणाओं को स्पष्ट करने में सहायक था.
  • 1855 में 30 साल की उम्र में दादाभाई को एल्फिनस्टोन इंस्टिट्यूशन में गणित एवं फिलोसोफी का प्रोफेसर बना दिया गया था. ये पहले भारतीय थे, जिन्हें किसी कॉलेज में प्रोफेसर बनाया गया था.
  • 1855 में ही दादाभाई ‘कामा एंड को’ कंपनी के पार्टनर बन गए, यह पहली भारतीय कंपनी थी, जो ब्रिटेन में स्थापित हुई थी. इसके काम के लिए दादाभाई लन्दन गए. दादाभाई लगन से वहाँ काम किया करते थे, लेकिन कंपनी के अनैतिक तरीके उन्हें पसंद नहीं आये और उन्होंने इस कंपनी में इस्तीफा दे दिया था.
  • 1859 में खुद की कपास (Cotton) ट्रेडिंग फर्म बनाया, जिसका नाम रखा ‘नौरोजी एंड को’ .
  • 1860 के दशक की शुरूवात में, दादाभाई ने सक्रिय रूप से भारतीयों के उत्थान के लिए काम करना शुरू किया था. वे भारत में ब्रिटिशों की प्रवासीय शासनविधि के सख्त खिलाफ थे.
  • इन्होने ब्रिटिशों के सामने ‘ड्रेन थ्योरी’ प्रस्तुत की, जिसमें बताया गया था कि ब्रिटिश कैसे भारत का शोषण करते है, कैसे वो योजनाबद्ध तरीके से भारत के धन और संसाधनों में कमी ला रहे है, और देश को गरीब बना रहे है.
  • इंग्लैंड में ईस्ट इंडिया कंपनी की स्थापना के बाद दादाभाई भारत वापस आ गए.
  • 1874 में बरोदा के महाराजा सयाजीराव गायकवाड तृतीय के सरंक्षण में दादाभाई काम करने लगे. यहाँ से उनका सामाजिक जीवन शुरू हुआ, और वे महाराजा के दीवान बना दिए गए.
  • इन्होने 1885 – 1888 के बीच में मुंबई की विधान परिषद के सदस्य के रूप में भी कार्य किया था.
  • 1886 में दादाभाई नौरोजी को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का अध्यक्ष बना दिया गया. इसके अलावा दादाभाई 1893 एवं 1906 में भी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के अध्यक्ष चुने गए थे. तीसरी बार 1906 में जब दादाभाई अध्यक्ष बने थे, तब उन्होंने पार्टी में उदारवादियों और चरमपंथियों के बीच एक विभाजन को रोका था.
  • 1906 में दादाभाई ने ही सबके सामने कांग्रेस पार्टी के साथ स्वराज की मांग की थी.
  • दादाभाई विरोध के लिए अहिंसावादी और संवैधानिक तरीकों पर विश्वास रखते थे.

दादा भाई नौरोजी को किसने भारत की आशा कहा था

1845 में एल्फिन्स्टन कॉलेज में गणित के प्राध्यापक हुए। यहाँ के एक अंग्रेज़ी प्राध्यापक ने इन्हें ‘भारत की आशा‘ की संज्ञा दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pooja Hegde Photos: ट्रेडिशनल लुक अपनाकर साड़ी पहने नजर आईं पूजा हेगड़े, तस्वीरें देखकर खूबसूरती के कायल हुए फैंस Ariana Aimes Biography/Wiki, Age, Height, Career, Photos & More Tejaswi Prakash Photos: ऑल ब्लैक लुक में तेजस्वी प्रकाश ने चलाए नैन बाण, तस्वीरों को देखकर फैंस हुए क्लीन बोल्ड Indian television actress Aamna Sharif | 40 साल की उम्र में थमने का नाम नहीं ले रहीं आमना शरीफ की Hotness, ब्लू शॉर्ट ड्रेस में शेयर की तस्वीरें Rakul Preet Singh Indo-Western इंडो-वेस्टर्न आउटफिट में रकुल प्रीत ने गिराईं हुस्न की बिजलियां, इंटरनेट पर वायरल हुआ हॉट लुक