March 2, 2024

NEWSZON

खबरों का digital अड्डा

बिरयानी और पुलाव में क्या अंतर है? | Biryani Aur Pulao Mein Kya Antar Hai?

बिरयानी और पुलाव में क्या अंतर है? | Biryani Aur Pulao Mein Kya Antar Hai?: क्या आपके लिए भी पुलाव और बिरयानी एक है? तो जान लें इन दोनों के बीच का बड़ा difference…. आपको भी लगता है पुलाव और बिरयानी एक होती है तो अपनी गलतफहमी आज ही दूर कर लें। 

Biryani Aur Pulao
Biryani Aur Pulao

स्थान के आधार पर

बिरयानी और पुलाव में पहला अंतर स्थान के आधार पर होता है। बिरयानी को आमतौर पर मुगलों और नवाबों का खाद्य व्यंजन माना जाता है| इसी कारण से हैदराबाद, लखनऊ और कोलकाता (Hyderabad, Lucknow and Kolkata) की बिरयानी में काफी अंतर पाया जाता है| जबकि पुलाव भारत और तुर्की (India and Turkey) देशों का खास व्यंजन माना गया है। भारत और तुर्की देशों के पुलाव में कोई खास अंतर नहीं पाया जाता।

बनाने की विधि के आधार पर

बिरयानी बनाने के लिए सबसे पहले चाँवल को उबला जाता है। इसके पश्चात उबले हुए चाँवल पर चिकन, मटन और सोयाबीन आदि की परत बनाई जाती है और उसे पकाया जाता है। वहीं दूसरी ओर पुलाव बनाने के लिए चाँवल को सब्जियों के साथ पकाया जाता है। बिरयानी हमेशा परतदार बनाई जाती है। इसमें चाँवल के ऊपर एक परत मांस की और दूसरी परत तले हुए प्याज के साथ चिकन या मटन आदि की रखी जाती है। जबकि पुलाव में मांस, चाँवल और सब्जियों आदि को एक साथ ही पकाया जाता है।

मसालों के आधार पर, दोनों के मसाले होते हैं अलग

बिरयानी बनाते समय इसमें दालचीनी, केसर, लोंग और इलायची जैसे खुशबूदार और ज़ायकेदार मसाले मिलाए जाते हैं। वहीं पुलाव में मसाले को अत्यधिक महत्त्व नहीं दिया जाता। पुलाव में मसालों की मात्रा बिरयानी की अपेक्षा बहुत कम होती है। दोनों को बनाने के लिए जिन मसालों का इस्तेमाल किया जाता है जब वही अलग होते हैं तो ये दोनों कैसे एक हो सकते हैं? वैसे भी पुलाव तुर्की और भारतीय dish है जबकि बिरयानी मुगलों और नवाबों का खाना माना जाता है। इसलिए बिरयानी को बनाने में मुगलई मसालों का इस्तेमाल किया जाता है, जैसे जावित्री, दालचीनी, लौंग, इलायची, कर्णफूल, जायफल, शाही जीरा, केसर। वहीं पुलाव मसालों पर कम निर्भर रहता है। इसमें स्वाद के लिए तेजपत्ता, लौगं और इलायाची मिलाकर बना दिया जाता है। सफेद चावल को भी किसी भी रंग के साथ नहीं रंगा जाता है।

बिरयानी मसालेदार और चटपटी बनाई जाती है। जबकि पुलाव को बिना मसाले के सफ़ेद चाँवल से भी बनाया जा सकता है| इसके लिए सफ़ेद चाँवल में थोड़ा सादा नमक मिलाकर चाँवल को पका लिया जाता है।

पकाने की विधि के आधार पर, आंच होती है अलग

बिरयानी को पकाने के लिए बर्तन को पूरी तरह से पैक कर दिया जाता है, ताकि मसालों की खुशबू बाहर न जा पाए और चाँवल अच्छे से पक जाएँ| इसके पश्चात कम आंच पर लम्बे समय तक बिरयानी को पकाया जाता है।

जबकि पुलाव को पकाने के लिए गैस या स्टोव को मध्यम आंच पर रखा जाता है। दोनों में सबसे बेसिक चीज आंच का ही difference होता है। मतलब कि दोनों को पकाने के लिए अलग-अलग आंच का इस्तेमाल किया जाता है। बिरयानी हमेशा कम आंच पर घंटों तक पकाई जाती है। जबकि पुलाव को मीडियम आंच पर पकाया जाता है। बिरयानी चाहे टेराकोटा, कच्चा लोहा या तांबे के बर्तन में बन रही हो, सुगंध को सुरक्षित रखने के लिए हमेशा बर्तन को सील बनाया जाता है।

लेयरिंग भी होती है अलग

आंच के बात दोनों में बेसिक difference लेयरिंग का भी होता है। बिरयानी कई लेयर्स में तैयार की जाती है। जैसे कि सबसे पहले प्याज मसाला एक तरफ भूंज लिया जाता है। फिर मांस अलग भूंज लिया जाता है। इसी तरह सब्जियां अलग भूंजी जाती हैं। फिर एक बर्तन में नॉनवेज की एक परत, सब्जियों की एक परत और तली हुई प्याज के लिए तीसरी परत रखी जाती है। वहीं पुलाव में सब्जियां, मांस, मसाले और चावल एक साथ भून कर उबाल दिये जाते हैं।

चावल की तैयारी

बिरयानी बनाने के लिए चावल को सबसे पहले अलग से उबाल कर तैयार किया जाता है। फिर उसके बाद मसाले, सबजियों और मांस की लेयरिंग तैयार कर पकाया जाता है। वहीं पुलाव बनाने के लिए चावल और सब्जियों को साथ में पकाया जाता है।

इसी कारण से बिरयानी और पुलाव की बनाने की विधि और स्वाद में अंतर पाया जाता है। कुछ लोग जो इन्हें नहीं जानते वह बिरयानी और पुलाव को एक ही समझते हैं और उनके मध्य अंतर को समझ नहीं पाते| हालाँकि बिरयानी और चाँवल दिखने में एक जैसे प्रतीत होते हैं परन्तु इनकी गुण और विशेषताएँ एक-दूसरे से बिल्कुल भिन्न होती है। बिरयानी को अत्यंत तेज असरदार मसालों से बनाया जाता है, जबकि पुलाव साधारण मसालों के मेल से बनाए जाते है।

F&Q

क्या बिरयानी और पुलाव एक ही है?

बिरयानी को पकाने की जल निकासी विधि का उपयोग करके बनाया जाता है – जिसका मूल रूप से मतलब है कि चावल को पानी में उबाला जाता है, और फिर सूखा, सुखाया जाता है और परत के लिए इस्तेमाल किया जाता है। पुलाव अवशोषण विधि के माध्यम से बनाया जाता है, इसलिए पानी या स्टॉक की मात्रा पूरी तरह से पकवान में चावल और सब्जियों द्वारा अवशोषित हो जाती है।

बिरयानी कितने प्रकार के होते हैं?

बिरयानी दो प्रकार से बनाई जाती है – पक्की बिरयानी और कच्ची बिरयानी. पक्की बिरयानी को बनाने के दौरान पके हुए चावल और माँस की परतें एक के उपर एक करके डाली जाती हैं. कच्ची बिरयानी मे कच्चे चावल और कच्चे तेल मसाले आदि के मिश्रण में लपेटे हुए माँस को एक के उपर एक रख के पकाया जाता है.

क्या वेज बिरयानी असली है?

वेज बिरयानी जरूर मौजूद है । केवल प्रामाणिक चिकन बिरयानी को स्वीकार करना अनुचित होगा, या उस बात के लिए, बिरयानी के रूप में मांस से बनी किसी भी बिरयानी को, शाकाहारियों को भी बिरयानी का आनंद लेने का अधिकार है।

बिरयानी में कौन सा चावल होता है?

बिरयानी के लिए बासमती चावल अच्छा माना जाता है. परफेक्ट बिरयानी के लिए पुराने बासमती चावल का ही इस्तेमाल करें.

Follow Us On Google NewsClick Here
 Facebook PageClick Here
 Youtube ChannelClick Here
 TwitterClick Here
 Website Click Here
  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें।
  • Web Title: What is the difference between Biryani and Pulao? | Biryani Aur Pulao Mein Kya Antar Hai?

Thanks!

Read Also :-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *