रामजन्मभूमि के सबूत खोद निकालने वाले बीबी लाल की मौत कैसे हुई? | B. B. Lal Ki Mrityu Kaise Hui?

रामजन्मभूमि के सबूत खोद निकालने वाले बीबी लाल की मौत कैसे हुई? | B. B. Lal Ki Mrityu Kaise Hui: भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के पूर्व महानिदेशक पद्मश्री विभूषण प्रो. बीबी लाल का शनिवार को निधन हो गया। उनका पूरा नाम ब्रजबासी लाल और उम्र 101 साल की थी। बीबी लाल को भारत का सबसे वरिष्ठ आर्कियोलॉजिस्ट माना जाता था। वह 100 साल की उम्र में भी आर्कियोलॉजी से जुडे़ शोधों में और इसके लेखन में सक्रिय थे।

बीबी लाल का जन्म झांसी जिला के बैडोरा गांव में 02 मई 1921 को हुआ था। उन्होंने भारतीय उन्नत अध्ययन संस्थान, शिमला के निदेशक के रूप में सेवा शुरू की। बीबी लाल को साल 2000 में पद्मभूषण के सम्मान से नवाजा गया था। इसके बाद 2021 में पद्मविभूषण का भी सम्मान दिया गया था।

बीबी लाल ने महाभारत और रामायण से जुड़ी साइट्स के साथ-साथ सिंधु घाटी और कालीबंगन पर भी खूब काम किया था। उनके काम से जुड़ी तमाम किताबें और सैकड़ों रिसर्च पेपर प्रकाशित हो चुके हैं। बीबी लाल 1968 से 1972 तक भारतीय पुरात्तव सर्वेक्षण विभाग के डायरेक्टर रहे। इसके अलावा वह यूनेस्को की विभिन्न समितियों में भी शामिल रहे थे। साल 1944 में सर मोर्टिमर व्हीलर ने उन्हें तक्षशिला में ट्रेनिंग दी थी।

जाने, कौन है ब्रज बासी लाल

B. B. Lal (ब्रज बासी लाल) – Indian archaeologist : ब्रज बसी लाल, जिन्हें बी बी लाल के नाम से जाना जाता है, एक भारतीय पुरातत्वविद् थे। वह 1968 से 1972 तक भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के महानिदेशक थे और उन्होंने भारतीय उन्नत अध्ययन संस्थान, शिमला के निदेशक के रूप में कार्य किया है। लाल ने यूनेस्को की विभिन्न समितियों में भी कार्य किया

  • जन्म : 2 मई 1921, झांसी
  • मृत्यु: 10 सितंबर 2022
  • राष्ट्रीयता: भारतीय
  • शिक्षा: इलाहाबाद विश्वविद्यालय
  • पुरस्कार: पद्म विभूषण, पद्म भूषण
  • बच्चे: 3

ये भी पढ़ें…

 Follow Us On Google NewsClick Here
 Facebook PageClick Here
 Youtube ChannelClick Here
 TwitterClick Here
 Website Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *