Bhuj Review in hindi: देशभक्ति के नाम पर Drama, निराश करती Ajay Devgan की फिल्म

  • फिल्म: भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया (Bhuj: The Pride of India)
  • निर्देशक: अभिषेक दुधैया
  • कलाकार: अजय देवगन, सोनाक्षी सिन्हा, संजय दत्त, एमी विर्क और नोरा फतेही
  • ओटीटी: डिजनी हॉटस्टार

स्वतंत्रता दिवस (Independence Day) के मौके पर देशभक्ति से प्रेरित फिल्में रिलीज होती रही हैं। इस साल भी ऐसा हुआ है। सिद्धार्थ मल्होत्रा की ‘शेरशाह’ के बाद अजय देवगन की ‘भुज: द प्राइड ऑफ इंडिया’ ने ओटीटी प्लेटफॉर्म पर दस्तक दे दी है। निर्देशक अभिषेक दुधैया के निर्देशन में बनी फिल्म में युद्ध, चीखने-चिल्लाने, बलिदान, मरने-मारने के बावजूद मानवीय भावनाओं की कमी देखने को मिलती है। करीब दो घंटे की फिल्म में कई किरदार और कहानियां सामने आती हैं लेकिन कोई भी अपना प्रभाव नहीं छोड़ पाता।

क्या है भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया की कहानी

फिल्म भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया में अजय देवगन स्क्वाड्रन लीडर विजय कुमार कार्णिक के किरदार में हैं। फिल्म भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया की कहानी की शुरुआत 1971 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के नैरेशन से शुरू होती है। अजय देवगन बताते हैं कि ईस्ट पाकिस्तान और वेस्ट पाकिस्तान अलग हो गए हैं, जिसके बाद बंगाली मुसलमानों पर पाकिस्तानी सेना का जुल्म जारी है। पाक राष्ट्रपति याह्या खान की योजना है कि भारत के भुज एयरबेस पर कब्जा किया जाए। वह भुज एयरबेस पर फाइटर जेट्स भेजते हैं जिससे नुकसान होता है।

फिल्म भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया में अजय देवगन के अलावा शरद केलकर, संजय दत्त, एमी विर्क, सोनाक्षी सिन्हा और नोरा फतेही की मुख्य भूमिका है।

भुज की कहानी नाटकीय लगती है

मुस्लिम पुरुषों की इमेज और भी नाटकीय लगती है। एक पाकिस्तानी अधिकारी का नाम तैमूर रखा गया है, जो कि हमें लगता है कि यह सबसे बुरा नाम है।

फिल्म में कुछ ‘अच्छे मुसलमान’ हैं। इन्हीं में से एक मुस्लिम किरदार नोरा फतेही ने निभाया है। वह एक पाकिस्तानी अधिकारी के घर में भारतीय जासूस हैं। अपने पांच मिनट के रोल में वह एक दर्जन हथियारबंद लोगों के चंगुल में फंसने से बचने की कोशिश करती हैं।

क्या है कमी भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया

‘भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया’ आपके आंख, कान और दिल पर एक के बाद एक हमले करता है। अभिषेक दुधैया सुनिश्चित करते हैं कि जब लोग डांस ना कर रहे हों और ना रो रहे हों तो फिर आपके पास इसकी कोई कमी ना हो। जमीनी स्तर पर जब देखें तो चीजें बहुत नकली लगने लगती हैं। अजय देवगन के कई सीन के अलावा सोनाक्षी सिन्हा का उच्चारण अटपटा लगता है। ‘भुज- द प्राइड ऑफ इंडिया’ में सबसे बड़ी समस्या राष्ट्रवाद के नाम पर चीखना-चिल्लाना है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें।
  • Web Title: Bhuj Review in Hindi: Drama in the name of patriotism, Ajay Devgan’s film disappoints

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Pooja Hegde Photos: ट्रेडिशनल लुक अपनाकर साड़ी पहने नजर आईं पूजा हेगड़े, तस्वीरें देखकर खूबसूरती के कायल हुए फैंस Ariana Aimes Biography/Wiki, Age, Height, Career, Photos & More Tejaswi Prakash Photos: ऑल ब्लैक लुक में तेजस्वी प्रकाश ने चलाए नैन बाण, तस्वीरों को देखकर फैंस हुए क्लीन बोल्ड Indian television actress Aamna Sharif | 40 साल की उम्र में थमने का नाम नहीं ले रहीं आमना शरीफ की Hotness, ब्लू शॉर्ट ड्रेस में शेयर की तस्वीरें Rakul Preet Singh Indo-Western इंडो-वेस्टर्न आउटफिट में रकुल प्रीत ने गिराईं हुस्न की बिजलियां, इंटरनेट पर वायरल हुआ हॉट लुक